District Institute of Education and Training,Almora

जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान, अल्मोड़ा

Common Yoga Protocol Link






डॉ राजेंद्र सिंह

Principal's Message

संस्कृति ,ज्ञान व चरित्र के पवित्र संगम से ही शिक्षा तीर्थराज बनती है तथा ऐसी शिक्षा से संस्कारित भवि -भावी पीढ़ी ही राष्ट्र को उन्नति व विश्वगुरु के पद पर पुनः प्रतिष्ठित कर सकती है | शिक्षा मानव विकास का मूल साधन है | इसके द्वारा मनुष्य की जन्मजात शक्तियों का विकास , उसके ज्ञान एवं कौशल में परिवर्तन किया जा सकता है ,और उसे सभ्य ,सुसंस्कृत एवं योग्य नागरिक बनाया जा सकता है |
आज दुनिया में ज्ञान का तेजी से विस्तार हो रहा है |राष्ट्रीय एवं विश्व स्तर पर हो रहे परिवर्तनों के आलोक में विषयवस्तु और अध्यापन के तरीको में भी परिवर्तन की आवश्यकता अनुभव की जा सकती रही है | इस सन्दर्भ में दृश्य -श्रव्य संचार माध्यमों की भूमिका सामने आ रही है |
इस सन्दर्भ में दृश्य - श्रव्य संचार माध्यमों की भूमिका सामने आ रही है | दृश्य श्रव्य संचार माध्यमों से अर्जित ज्ञान व कौशल न केवल शिक्षक को प्रभावी अध्यापक बनाता है, अपितु विद्यार्थियों को ज्ञान का सृजन करने में सहायता देने में भी उसके लिए उपयोगी होता है | वर्तमान में सूचना प्रौद्योगिकी के हर क्षेत्र में नित नए प्रयोग किये जा रहे हैं इसी को दृष्टिगत रखते हुए जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान (डायट) अल्मोड़ा अपनी गतिविधियों से सम्बंधित वेबसाइट का निर्माण कर रहा है , जिसमें प्रशिक्षण ,अनुसमर्थन और शोध से सम्बंधित जानकारियों को अद्यतन करने का प्रयास किया गया है |
डायट की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि भौतिक एवं अकादिमिक संसाधनों की जानकारी जनपद में शिक्षा के क्षेत्र मैं हो रही नवीन गतिविधियों एवं नवाचारों से समाज के हर वर्ग तक लाभ पहुंचना है | प्रबुद्ध एवं सुहृदय पाठकों से निवेदन है कि वे अपने बहुमूल्य सुझाव एवं परामर्श से हमें अनुग्रहित कराएँगे | |


District Institute for Education and Training
Laxmiswar,Almora
Uttarakhand
Pin:263601
+91-5962-234275
Design,Developed and Hosted by Techstarsoftwares